पहना था बड़े शौक से , नया लिबास इस तरह , कुछ रंग निकल गया , कुछ शौक- ऐ -मोहब्बत……..

पहना था बड़े शौक से , नया लिबास इस तरह
कुछ रंग निकल गया , कुछ शौक- ऐ -मोहब्बत……..

सीने में जलन इस कदर , और दिल में दर्द था
अब खुदा ही जाने , मोहब्बत थी या मर्ज था

Share
By | 2017-08-29T22:24:16+00:00 August 12th, 2017|Blog|0 Comments