शहर नया था तुम्हारा यु , और मैं शख्स पुराना, ………………………………………..

शहर नया था तुम्हारा यु , और मैं शख्स पुराना,,
दस्तूर- ऐ- मोहब्बत ये , कुछ समझ नहीं पाया ,,,,,

Visit at www.sonutyagi.com

Share
By | 2017-09-01T22:43:56+00:00 September 1st, 2017|Blog|0 Comments